Kahin Door Jab Din Dhal Jaye Lyrics | LyricsBowl

Kahin Door Jab Din Dhal Jaye Lyrics are penned down by Yogesh and music is directed by Salil Chowdhary. Kahin Door Jab Din Dhal Jaye Lyrics are sung beautifully by Mukesh.


Kahin Door Jab Din Dhal Jaye Lyrics

Song credits:

Song: Kahin Door Jab
Starcast: Rajesh Khanna, Amitabh Bachchan
Singers: Mukesh
Music : Salil Chowdhary
Lyricist - Yogesh

Kahin Door Jab Din Dhal Jaye Lyrics

कहीं दूर जब दिन ढल जाए
साँझ की दुल्हन बदन चुराए
चुपके से आए
मेरे ख़यालों के आँगन में
कोई सपनों के दीप जलाए, दीप जलाए
कहीं दूर जब दिन ढल जाए
साँझ की दुल्हन बदन चुराए
चुपके से आए
[कभी यूँहीं, जब हुईं, बोझल साँसें
भर आई बैठे बैठे, जब यूँ ही आँखें ] x 2
तभी मचल के, प्यार से चल के
छुए कोई मुझे पर नज़र न आए, नज़र न आए
कहीं दूर जब दिन ढल जाए
साँझ की दुल्हन बदन चुराए
चुपके से आए
[कहीं तो ये, दिल कभी, मिल नहीं पाते
कहीं से निकल आए, जनमों के नाते ] x 2
घनी थी उलझन, बैरी अपना मन
अपना ही होके सहे दर्द पराये, दर्द पराये
कहीं दूर जब दिन ढल जाए
साँझ की दुल्हन बदन चुराए
चुपके से आए
[दिल जाने, मेरे सारे, भेद ये गहरे
खो गए कैसे मेरे,…
ये मेरे सपने, यही तो हैं अपने
मुझसे जुदा न होंगे इनके ये साये, इनके ये साये
कहीं दूर जब दिन ढल जाए
साँझ की दुल्हन बदन चुराए
चुपके से आए
मेरे ख़यालों के आँगन में
कोई सपनों के दीप जलाए, दीप जलाए
कहीं दूर जब दिन ढल जाए
साँझ की दुल्हन बदन चुराए
चुपके से आए

If you are facing issues with the above Kahin Door Jab Din Dhal Jaye Lyrics,  kindly contact us for modification of lyrics.

Music Video of Kahin Door Jab Din Dhal Jaye Song

Previous
Next Post »

Please don't spam any link in the comment box ConversionConversion EmoticonEmoticon